किनौर 

जिले के रूप में गठन 21 अप्रैल,1960. जिला मुख्यालय रिकांगपिओ है | किन्नौर का कुल क्षेत्रफल 6401वर्ग किलोमीटर है | किन्नौर हिमाचल प्रदेश के पूर्व में स्थित जिला है | किन्नौर के पूर्व में तिब्बतदक्षिण में उत्तराखंड, पश्चिम में कुल्लू,
दक्षिण और दक्षिण पश्चिम में शिमला तथा उत्तर पशचिम  में लाहौल स्पीति जिले स्थित है

 

1.    घाटियां – सतलुज घाटी किन्नौर की सबसे बड़ी घाटी है | हाँगराँग घाटी स्पीति
नदी के साथ स्थित है जो कहब गांव के पास सतलुज में मिलती है
| सुनाम या रूपघटि  रोपा नदी द्वारा बनती है 
बसप्पा घाटी को सांगला घाटी भी कहा जाता है | यह
घाटी बसपा नदी द्वारा निर्मित होती है
| भाभा किन्नौर का
सबसे बड़ा गावं है जो भाभा में स्थित है

2.    नदियां – सतलुज नदी किन्नौर
को दो बराबर भागों में बांटती है
| सतलुज को तिब्बत में
जुगन्ति और मुकसुंग के नाम से जाना जाता है
| रोपा नदी शियसु
के पास सतलुज नदी में मिलती है
| कसांग, तैती, यूला,मुलगुन, स्पीति और बस्पा सतलुज की किन्नौर में प्रमुख सहायक नदियां है

3.    झीलें – नाको (हांगरांग झील में स्थित) और सोरंग
(नीचर तहसील में स्थित) किन्नौर की प्रमुख झीले है

4.    वन  नियोजा वृक्ष पुरे देश में केवल किन्नौर में पाया जाता है |  

5.    विवाह – किन्नौर में जनेटांग व्यवस्थित विवाह
है
| दमचल शीश, दमटंग शीश,जूजीश प्रेम विवाह है | दरोश, डबडब,हचिश, नेम्सः डेपांग जबरन विवाह है | ‘हरदूसरे की पत्नी को भगाकर किया गया विवाह है

6.    लवी  मेला – बुशहर के राजा केहरि
सिंह ने
1683 ई०  में रामपुर में
लवी मेला शुरू किया
| यह एक व्यापारिक मेला है जहां से
तिब्बत से व्यापर होता था
| यह हिमाचल प्रदेश का सबसे पुराण
मेला है

7.    किन्नौर के कड़छम में भेड़ प्रजनन
केंद्र
 
है |

8.    जलविद्युत परियोजनाएं –

  • संजय जलविद्युत परियोजना (भाभा) 120
    मेगावाट,
  • नाथपा झाखरी परियोजना  (1500 मेगावाट)
  • वस्पा  जलविद्युत परियोजना जिले की प्रमुख जलविद्युत परियोजनाएं है | 

 

Kinnaur District Geography

To read the Kinnaur district geography then press below read more button

Kinnaur District Quiz

To read the Kinnaur district Quiz then press below read more button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *