कुल्लू                   

जिले के रूप में गठन 1963 जिला मुख्यालय कुल्लू है | कुल्लू का कुल क्षेत्रफल 5503 वर्ग किलोमीटर है | कुल्लू हिमाचल प्रदेश के मध्य भाग में स्थित जिला है | कुल्लू के उत्तर में और उत्तर पूर्व में लाहौल स्पीति, पूर्व में किन्नौर, दक्षिण में शिमला, पश्चिम और दक्षिण में मंडी और उत्तर पश्चिम में काँगड़ा जिला स्थित है | 

इतिहास :-

 पाल वंश 

  •  कुल्लू रियासत की स्थापना –  कुल्लू का पौराणिक ग्रंथों में ‘कुल्लुत देश, के नाम से वर्णन मिलता है | रामायण,विष्णुपुराण,महाभारत,मार्कडेंय पुराण, वृहस्तसंहिता पर कल्हण की राजतरंगिणी में ‘कुल्लुत’ का वर्णन मिलता है | कुल्लू घाटी को कुलंतपीठ भी कहा गया है क्यूंकि इसे रहने योग्य संसार कहा गया है |  कुल्लू रियासत की स्थापना विहंगमनीपाल ने हरिद्वार से आकर की थी | विहंगमनीपाल के पूर्वज इलाहाबाद से अल्मोड़ा और हरिद्वार आकर बस गए| विहंगमनीपाल स्थानीय जागीरदारों से पराजित होकर प्रारम्भ में जगतसुख के चपाईराम के घर रहने लगे | भगवती हिडिम्बा देवी के आशीर्वाद से विहंगमनीपाल ने रियासत की पहली राजधानी जगतसुख स्थापित की | विहंगमनीपाल के पुत्र पछ्पाल ने ‘गजन’ और ‘बेवला’ के राजा को हराया | 
  • कुल्लू रियासत की 7 बजीरियां 
  1. परोलबजीरी(कुल्लू)   
  2. बजीरीरूपी(पार्वत और सैंज खड्ड के बीच)
  3. बजीरीलगमहाराज (सरवरी और सुल्तानपुर से बजौरा तक)
  4. बजीरीभंगाल 
  5. बजीरीलाहौल
  6. बजीरीलगसारी (फोजल और सरवरी खड्ड के बीच)
  7. बजीरीसिराज(सिराज को जलौरी दर्रा दो भागों में बांटता है)
  • महाभात काल – कुल्लू रियासत की कुल देवी हिडिम्बा ने भीम से विवाह किया था | घटोतकच भीं और हिडिम्बा का पुत्र था जिसने महाभारत युद्ध में भाग लिया था | हिडिम्बा  (टांडी)का वध किया था जो देवी राक्षसी का भाई था | 
  • हेनसांग का विवरण – चीनी यात्री हेनसांग ने 635 ई० में कुल्लू रियासत की यात्रा की | उन्होंने कुल्लू रियासत की परिधि 800 किलोमीटर बताई जो जालंधर से 187 किलोमीटर दूर स्थित था | भगवान बुद्ध की याद में अशोक ने कुल्लू में बौद्ध स्तूप बनवाया | 
  • विसूदपाल:–नग्गर के राजा करमचंद को युद्ध में हराकर विसूदपाल ने कुल्लू की राजधानी जगतसुख से नग्गर स्थानांतरित की | 
  • रुद्रपाल और प्रसिद्धपाल – रुद्रपाल के शासनकाल में स्पीति के राजा राजेंद्र सेन ने कुल्लू पर आक्रमण करके उसे नरजना देने के लिए विवश किया | प्रसिद्धपाल ने स्पीति के राजा छतसेन से कुल्लू और चम्बा के राजा से लाहौल को आज़ाद करवाया | 
  • दतेश्वर पाल – दतेश्वर पाल के समय चम्बा के राजा मेरुवर्मन (680-700 ई०) ने कुल्लू पर आक्रमण कर दतेश्वर पाल को हराया और वह इस युद्ध में मारा गया | दतेश्वर पाल ‘पालवंश’ का 31वां राजा था |
  • जारेशवरपाल – जारेशवरपाल ने बुशहर रियासत की सहायता से कुल्लू और चम्बा से मुक्त करवाया |
  • भूपपाल  कुल्लू के 43वें राजा भूपपाल सुकेत राज्य के संस्थापक वीरसेन के समकालीन थे | वीरसेन ने सिराज में भूपपाल को हराकर उसे बंदी बनाया |
  •  पड़ोसी राज्य के पाल वंश पर आक्रमण – हस्तपाल -2 के समय बुशहर, नरिंदर पाल के समय बंगाहल,नन्द्पाल के समय काँगड़ा, केरल पाल के समय सुकेत ने कुल्लू पर आकर्मण कर कब्जा किया और नजराना देने के मजबूर किया | 
  • उर्दानपाल(1418-1428 ई०)– पाल वंश के 72वें राजा  उर्दान पालमें जगतसुख में संध्या देवी का मंदिर बनवाया | 
  • पालवंश का अंतिमशासक – कैलाश पाल (1428-1450 ई०कुल्लू का अंतिम राजा था |

सिंह बदानी वंश 

कैलाश पाल के बाद के 50 वर्षों के अधिकतर समय में कुल्लू सुकेत रियासत के अधीन रहा | वर्ष 1500 ई०  में सिद्ध सिंह बदानी वंश की स्थापना की | उन्होंने जगतसुख को अपनी राजधानी बनाया |

  • बहादुर सिंह (1532 ई०) – बहादुर सिंह सुकेत के राजा अर्जुन सेन का समकालीन था | बहादुर सिंह ने बजीरी रूपी को कुल्लू राज्य का भाग बनाया | बहादुर सिंह ने मकरसा में अपने लिए महल बनवाया | मकरसा की स्थापना महाभारत के विदुर के पुत्र मकस ने की थी | राज्य की राजधानी उस समय नग्गर थी | बहादुर सिंह ने अपने पुत्र प्रताप सिंह का विवाह चम्बा के राजा गणेश वर्मन की बेटी से करवाया |बहादुर सिंह के बाद प्रताप सिंह (1559-1575 ई०), परतब सिंह (1575 -1608 ई०), पृथ्वी सिंह (1608-1635 ई०) और कल्याण सिंह (1635-1637 ई०) मुगलों के अधीन रहकर कुल्लू पर शासन कर रहे थे |
  • जगतसिंह(163772 ई०) – जगत सिंह कुल्लू रियासत का सबसे शक्तिशाली  राजा था |जगत सिंह ने लग बजीरी और बहरी सिराज पर कब्जा किया | उन्होंने डुग्गिलग के जोगचंद और सुल्तानपुर के सुल्तानचन्द (सुल्तानपुर के संस्थापक )को (165055 ई०)के बीच पराजित कर ‘लग’ बजीरी पर कब्जा किया | औरंगजेब उन्हें ‘कुल्लू का राजा’ कहते थे | कुल्लू के राजा जगत सिंह ने 1640 ई० में दाराशिकोह के विरुद्ध विद्रोह किया तथा 1657 ई० में उसके फरमान को मानने से मना कर दिया था |
  • मानसिंह ई०) – कुल्लू के राजा मानसिंह ने मंडी पर आक्रमण क्र गम्मा (द्रंग) नमक की खानों पर 1700 ई० में कब्जा जमाया | उन्होंने 1688 ई० में वीर भंगाल क्षेत्र पर नियंत्रण किया | उन्होंने लाहौल – स्पीति को अपने अधीन कर तिब्बत की सीमा लिंगटी नदी के साथ निर्धारित की | राजा मानसिंह ने शंगरी और बुशहर रियासत के पंडरा ब्यास क्षेत्र को बिस अपने अधीन किया | उनके शासन में कुल्लू रियासत का क्षेत्रफल 10,000 वर्ग मील हो गया | 
  • राजसिंह(1702-1731 ई० राजा राजसिंह के समय गुरु गोविन्द सिंह जी ने कुल्लू की यात्रा की |
  • टेढ़ीसिंह(1742-1767 ई०) – राजा टेढ़ी सिंह के समय घमंड चंद ने कुल्लू पर आक्रमण किया |
  • प्रीतमसिंह(1767-1806 ई०) – राजा प्रीतम सिंह संसारचंद द्वितीय का समकालीन राजा था | उसके समय कुल्लू का वजीर भागचंद था |
  • विक्रमसिंह(1806-1816 ई०) – राजा विक्रम सिंह के समय में 1810 ई० में कुल्लू पर पहला सिक्ख आकर्मण हुआ जिसका नेतृत्व दिवान मोहकम चंद कर रहे थे |
  • अजितसिंह(1816-1861 ई०) – राजा अजित सिंह के समय 1820 ई० में विलियम मूरक्राफ्ट ने कुल्लू की यात्रा की | कुल्लू प्रवास पर आने वाले वह पहले यूरोपीय यात्री थे | राजा अजित सिंह को सिक्ख सम्राट शेरसिंह ने कुल्लू रियासत से खदेड़ दिया (1840  ई० में) | ब्रिटिश संरक्षण के अधीन सांगरी रियासत में शरण लेने के बाद 1841 ई० में अजित सिंह की मृत्यु हो गयी | कुल्लू रियासत 1840 ई० से 1846 ई० तक सिक्खो  के अधीन रहा | 
  • ब्रिटिश सत्ता और जिला निर्माण – प्रथम सिक्ख युद्ध के बाद मार्च, 1846ई० को कुल्लू रियासत अंग्रजों के अधीन आ गया | लाहौल स्पीति को मार्च,1846 ई० को कुल्लू में मिलाया गया | स्पीति को लद्दाख से कुल्लू को मिलाया गया | कुल्लू को 1846 ई० में काँगड़ा का उपमंडल बनाकर शामिल किया गया | कुल्लू उपमंडल से अलग होकर लाहौल स्पीति जिले कागठन 30 जून, 1960 ई० को हुआ | कुल्लू जिले के पहले उपायुक्त गुरुचरण  सिंह थे | कुल्लू जिले का नवंबर, 1966 ई० को पंजाब से हिमाचल प्रदेश में विलय हो गया |  

Kullu District Geography

To read the Kullu district geography then press below read more button

Kullu District Quiz

To read the Kullu district Quiz then press below read more button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *